Shantishram
બ્રેકીંગ ન્યૂઝ
અન્ય અમદાવાદ આંતરરાષ્ટ્રીય ઓટો કાર ગુજરાત જીવનશૈલી ટીવી ટેકનોલોજી ધાર્મિક પાટણ બચત બનાસકાંઠા બાઇક બિઝનેસ બ્રેકીંગ ન્યૂઝ મનોરંજન મૂવીઝ મોબાઇલ મ્યુચ્યુઅલ ફંડ્સ રમતો રમતો રાજકારણ રાષ્ટ્રીય રોકાણો વિશ્વ સમાચાર વીમા વ્યક્તિગત નાણાં શેરબજારમાં સ્વાસ્થ્ય

कोविड मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवा को इस कंपनी ने कर दी सस्ती

नई दिल्ली:
Coronavirus (Covid-19): दवा बनाने वाली एक कंपनी ने कोविड- 19 के इलाज में काम आने वाली अपनी एंटीवायरल दवा फेविपिराविर (Favipiravir) का दाम 27 प्रतिशत घटाकर 75 रुपये प्रति गोली कर दिया है. कंपनी की यह दवा फेबीफ्लू ब्रांड नाम से बाजार में उतारी गई है. कंपनी ने एक बयान में कहा कि उसने अपनी दवा ‘फेबीफ्लू’ का दाम 27 प्रतिशत घटा दिया है. अब दवा का नया अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) 75 रुपये प्रति टैबलेट होगा. फेबीफ्लू को पिछले महीने बाजार में उतारा था. तब एक गोली की कीमत 103 रुपये रखी गई थी.

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: निवेश मांग बढ़ने से आज महंगे हो सकते हैं सोना-चांदी, देखें टॉप ट्रेडिंग कॉल्स

Advertisement

दवा के लिए कंपनी के अंकलेश्वर संयंत्र में हो रहा है एपीआई का निर्माण
कंपनी की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक हमारा आंतरिक विश्लेषण बताता है कि हमारी इस दवा को जहां-जहां अनुमति मिली है उन देशों के मुकाबले हमने भारत में इसे कम से कम दाम पर जारी किया है. इसकी एक बड़ी वजह दवा बनाने में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल (एपीआई) और यौगिक दोनों का विनिर्माण कंपनी के भारतीय संयंत्र में होना है. इससे कंपनी को लागत में लाभ हुआ है जिसे अब देश के लोगों को हस्तांरित करने की योजना है. हमें उम्मीद है कि इसके दाम में और कमी किये जाने से देश में बीमारों तक इसकी पहुंच और बेहतर होगी. कंपनी ने कहा कि दवा के लिए एपीआई का निर्माण उसके अंकलेश्वर संयंत्र में किया जा रहा है, जबकि दवा का यौगिक (फॉर्मूलेशन) उसके हिमाचल प्रदेश स्थित बद्दी संयंत्र में तैयार किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें: देश में कोरोना के रिकॉर्ड 28 हजार नए मामले, कुल आंकड़ा 9 लाख के पार

Advertisement

कंपनी ने कहा कि उसने फेबीफ्लू की बिक्री के बाद उसके परिणामों को लेकर निगरानी रखनी शुरू कर दी है, ताकि दवा की क्षमता और सुरक्षा का अध्ययन किया जा सके. करीब 1,000 मरीजों पर निगरानी रख यह अध्ययन किया जा रहा है. यह दवा इन मरीजों को खाने की गोली के रूप में दी जा रही है. मलिक ने कहा कि हमें उम्मीद है कि बिक्री के बाद किए जा रहे इस निगरानी अध्ययन से हमें दवा की क्षमता और सुरक्षा के बारे में और अधिक जानकारी हासिल होगी. ग्लेमार्क ने 20 जून को उसके दवा फेबीफ्लू के लिये भारत के दवा नियामक से इसके विनिर्माण और विपणन की मंजूरी मिलने की घोषणा की थी. इसके साथ ही यह हल्के और बहुत हल्के कोविड- 19 संक्रमित मरीजों के लिये पहली मंजूरी प्राप्त दवा बन गई जिसे बाजार में बेचने की अनुमति दी गई.

यह भी पढ़ें: कोरोना रोगियों को दें हल्दी वाला दूध और आयुर्वेदिक काढ़ा, जानें इनके फायदे, ऐसे बनाएं मिश्रण

Advertisement

कंपनी ने कहा है कि उसने भारत में मामूली और हल्के संक्रमण वाले कोविड-19 मरीजों के लिये तैयार दवा के तीसरे चरण के क्लिनिकल परीक्षण को भी पूरा कर लिया है. परीक्षण के परिणाम जल्द ही उपलब्ध होंगे. स्वास्थ्य मंत्रालय के सोमवार सुबह जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या में एक ही दिन में 28,701 की बढ़ोत्तरी हुई है. कुल संक्रमितों की संख्या 8,78,254 पहुंच गयी है और मरने वालों का आंकड़ा 23,174 हो चुका है.

Advertisement

संबंधित पोस्ट

મોરબી જિલ્લામાં દેશી દારૂ વેંચતા ૪ ઈસમો ઝડપાયા, દારૂબંધીની અમલવારી ?

Shanti Shram

BCCI On Virat Kohli: ‘ કોહલી હોય કે કોઇ અન્ય ખેલાડી, કોઇને પણ ટીમમાંથી બહાર કરવામાં આવી શકે છે’, BCCIએ આપ્યો મોટો સંદેશ

Shanti Shram

સુરત અને તાપી જિલ્લાના ૪૭ વેપારીઓ તોલમાપના કાયદાનો ભંગ કરતા દંડાયા

Shanti Shram

લાઇફસ્ટાઇલ / વરસાદમાં જરૂર પીવો ગાર્લિક વેજિટેબલ સૂપ, તમારા પરિવારને રાખો ફિટ એન્ડ ફાઇન

Shanti Shram

Facebook, Apple, Google, Amazon પર આરોપ છે કે એકત્ર કરેલા ડેટાનો દુરુપયોગ કરે છે,જાણો

shantishramteam

Reliance રિલાયન્સ આપશે 13 લાખ કર્મચારી-સહયોગીઓને મફત વેક્સીન Free vaccination

shantishramteam